आंधी-बारिश से जिले की बिजली आपूर्ति ठप

नौतपा के बीच रविवार देर शाम एकाएक मौसम ने करवट ली और तेज आंधी के बीच हल्की बारिश हुई। आंधी ने ऐसी तबाही मचाई कि जिले भर की विद्युत आपूर्ति ठप हो गई। एकाएक शहर के सभी इलाकों के साथ-साथ ग्रामीण अंचल में भी अंधेरा छा गया। इस पर विद्युत वितरण व्यवस्था से जुड़े अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गए। शहर के साथ-साथ देहात के सभी इलाकों से विद्युत पोल और लाइन टूटने व पेड़ टूटने की खबरें आने लगीं। शहर को आपूर्ति देने वाली सभी 33 केवीए व 11 हजार केवीए लाइनें बंद हो गईं। देर रात समाचार लिखे जाने तक जिले में अंधेरा छाया हुआ था। पेट्रोलिंग टीमें फीडर वार फॉल्ट खोजने में लगी थीं। विद्युत आपूर्ति कब शुरू होगी, इसको लेकर संतोष जनक जवाब नहीं मिल पा रहा था।
शाम करीब सात बजे एकाएक मौसम बदलने लगा। कुछ ही देर में तेज आंधी शुरू हो गई। हालांकि इसे देखते हुए एहतियातन विद्युत आपूर्ति बंद कर दी गई। मगर कुछ ही देर में शहर के साथ-साथ जिले भर से विद्युत पोल, तार व पेड़ टूटने की खबरें आने लगीं। इस दौरान बारिश भी हुई। करीब एक घंटे बाद आंधी व बारिश का सिलसिला तो रुक गया। मगर आपूर्ति शुरू नहीं हो सकी। चारों ओर फोन घनघनाने लगे। इस दौरान शहर में मैरिस रोड पर पूरा पेड़ धराशायी हो गया। कुलदीप विहार के बाहर क्वार्सी बाईपास पर पोल टूटकर गिर गया। इस तरह की शिकायतें अनगिनत जगहों से आईं। किसी लाइन पर पेड़ टूटने की, कहीं पोल टूटने की, कहीं तार टूटने की और कहीं लाइन पर होर्डिंग बैनर गिरने से शिकायतें आईं।

कमोबेश यही हालात देहात के थे। खेरेश्वर फीडर के पास तो खबर मिली कि वहां 33केवीए लाइन टूटकर कहां गिरी है। यह न तो दिखाई दे रहा और न पता चल रहा। शहर को आपूर्ति देने वाली सभी 33केवीए लाइनें बंद हो गईं। शहर के सभी फीडरों में छोटे-मोटे फॉल्ट हो गए। देर रात समाचार लिखे जाने तक किसी भी फीडर की आपूर्ति शुरू नहीं हो पाई थी।
नगर क्षेत्र के अधीक्षण अभियंता एसके जैन का कहना था कि सभी फीडरों की आपूर्ति बंद है। सभी जगह पेट्रोलिंग कराई जा रही है। किसी भी फीडर को शुरू करने पर 33 केवीए लाइन ब्रेक हो रही है। इसलिए अब बिना चेकिंग के किसी भी फीडर को दुरुस्त किया जाना संभव नहीं है। रात में दिन में ड्यूटी देने वाली टीमों को भी बुलाकर पेट्रोलिंग के लिए लगाया गया है। देर रात तक प्रयास जारी हैं। इसी तरह देहात क्षेत्र के अधीक्षण अभियंता का भी कहना है कि सभी जगह आपूर्ति शुरू करने के प्रयास किए जा रहे हैं।
शहर के कई नलकूपों की आपूर्ति बंद, पेयजल संकट
अलीगढ़। नगर क्षेत्र में विद्युत आपूर्ति ठप होने से शहर के कई नलकूपों की आपूर्ति भी बंद हो गई है। इससे पेयजल संकट भी गहरा गया है। नगर निगम टीमें अपने अनुसार आपूर्ति दुरुस्त करने के प्रयास में जुटी हैं। आपूर्ति सुचारु होने पर सुबह तक पेयजल आपूर्ति दुरुस्त कर दी जाएगी।

दिन में सूरज ने बरसाई आग, शाम को उमस से लोग परेशान
जिले में गर्मी और लू का कहर जारी है। तपिश और उमस से लोग परेशान हैं। सूरज आग बरसा रहा है। मौसम विभाग ने गर्म हवाओं को लेकर अलर्ट जारी कर रखा है। भीषण गर्मी व बढ़ते तापमान के कारण आम जनजीवन अस्त व्यस्त रहा।
रविवार को जिले का अधिकतम तापमान 40.2 डिग्री और न्यूनतम तापमान 28.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हवा की रफ्तार दस किमी. प्रति घंटा रही। सुबह आठ बजते ही तेज धूप और उमस से लोग परेशान रहे। जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया तापमान बढ़ता गया। आसमान से आग के गोलों और धरती से गर्मी की तपिश ने लोगों को परेशान किया। धूप से बचने के लिए लोगों ने छाते का सहारा लिया। शहर में दोपहर 12 बजे के बाद सड़कों पर लोगों की आवाजाही कम हो गई। शहर के प्रमुख बाजारों में सन्नाटा पसर गया। दुकानदार भी ग्राहकों का इंतजार करते रहे।
तेज धूप व लू से बचने के लिए लोग अपने घरों में कैद रहे। दोपहर दो बजे के बाद भी सूरज की तपिश और उमस में कोई कमी नहीं रही। शाम ढलने के बाद ही लोगों को गर्मी से थोड़ी राहत मिली। शहर से लेकर गांव तक बिजली की अनियमित आपूर्ति ने परेशानी को और बढ़ाया। इधर, शाम को बारिश के बाद मौसम उमस भरा हो गया। इसके बाद देर रात तक लोग बिजली न होने से उमस में बेहाल रहे।