Home » ए.एम.यू » शाहजहा के शासनकाल पर आयोजित राष्ट्रीय सेमीनार का आयोजन किया गया।
shahjahan

शाहजहा के शासनकाल पर आयोजित राष्ट्रीय सेमीनार का आयोजन किया गया।

अलीगढ़ मुसिलम विश्वविधालय के सेंटर आफ एडवांस्ड स्टडी, इतिहास विभाग द्वारा मुगल शासक शाहजहा के शासनकाल पर आयोजित राष्ट्रीय सेमीनार को संबोधित करते हुए विएना विश्वविधालय आसिट्रया की प्रोफेसर इब्बा कोच ने कहा कि इतिहासकारों ने शाहजहा शासनकाल का सबसे कम अध्ययन किया है। जबकि उनका अधिकतर ध्यान अकबर और औरंगजे़ब पर केनिद्रत रहा ।

उन्होंने कहा कि इसका कारण फारसी भाषा में शाहजहा के ऊपर लिखा गया वह साहित्य भी रहा जिसका अनुवाद कम होने के कारण शोधकर्ताओं ने उस पर वो कार्य नहीं किये जो उन्हें करना चाहिए था। प्रो. कोच ने कहा कि अकबर के मुकाबले में शाहजहा के बारे में पूर्वाग्रह के कारण उनके शासनकाल पर कार्य नहीं किया गया जबकि शाहजहा का दौर मुगल शासनकाल में इमारतों के निर्माण का दौर कहा जा सकता है। प्रो. कोच ने कहा कि शाहजहा के समय के इतिहास और कला को देखा जए तो वह मुगल शासन का उदय का समय था जो न तो इससे पहले देखा गया और न बाद में देखने को मिला।

इतिहास विभाग के अध्यक्ष और सैन्टर आफ एडवांस स्टडी इतिहास विभाग के कार्डीनेटर प्रोफेसर तारिक अहमद ने कहा कि शाहजहा के शासनकाल का सबसे अधिक महत्तव इसलिए है कि इस काल में न केवल ऐतिहासिक इमारतों का निर्माण हुआ बलिक बड़े स्तर पर प्रशासनिक व संस्थागत बदलाव भी हुए। उन्होंने कहा कि यह सेमीनार न केवल शोधार्थियों बलिक पोस्ट ग्रेजुएट छात्रों के लिए भी शाहजहा के शासनकाल को समझने में मददगार साबित होगा।

सेमीनार की कनवीनर डा. गुलफिशां खान ने कहा कि मुगलशासक शाहजहा का काल मुगल इतिहास का सबसे अधिक स्वर्णिम काल रहा है। इस काल में न केवल सिथरता रही बलिक उनका निर्माण के क्षेत्र में भी महत्वपूर्ण कार्य हुआ जिस पर सभी इतिहासकार एकमत हैं। उन्होंने कहा कि यह विभाग इस संस्था के संस्थापक सर सैयद अहमद खान की विरासत को आगे बढ़ा रहा है। सर सैयद स्वयं एक इतिहासकार और दुर्लभ पुरातत्ववेत्ता थे जिन्होंने जहागीर नामा और आर्इन-ए-अकबरी जैसी ऐतिहासिक पुस्तकों को संपादित किया।

इस अवसर पर शाहजहा विशेषज्ञ दिल्ली विश्वविधालय के प्रोफेसर मोहम्मद युनुस जाफरी ने डा आनन्द भटटाचार्य द्वारा लिखित पुस्तक सेपाय टू सूबेदार का भी विमोचन किया। उपसिथतजनों का आभार प्रोफेसर अली अथर ने जताया। इतिहास विभाग में शाहजहा शासन काल से संबंधित दुर्लभ सिक्कों, पुस्तकों आदि की प्रदर्शनी भी लगायी गयी है। दो दिन तक चलने वाले इस सेमीनार में देश के प्रमुख इतिहासकार भाग ले रहे हैं।
बार्इट :- डा.गुलफिशा खान (कनविनर)

YouTube Preview Image

1,696 total views, 1 views today

अपनी राय दें

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

‘पद्मावती’ विवाद में भाजपा नेता का इस्तीफ़ा, मनोहरलाल खट्टर को सुनाई खरी खोटी

चंडीगढ़ । फ़िल्म ‘पद्मावती’ का विरोध कर रहे भाजपा नेता सूरजपाल अम्मू ने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है। वो हरियाणा में भाजपा के चीफ़ मीडिया कोऑर्डिनेटर थे। अम्मू ने इस्तीफ़े के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को ज़िम्मेदार ठहराया। यही नही उन्होंने खट्टर को ख़ूब खरी खोटी सुनाते हुए कहा की मैंने आज तक इतना घमंडी भाजपा मुख्यमंत्री नही देखा। बताते चले की फ़िल्म ‘पद्मावती’ के विरोध में सूरजपाल अम्मू ने संजय लीला भंसाली और दीपिका पादुकोण का सर काटने वाले को दस करोड़ रुपए देने का एलान किया था। हालाँकि भाजपा ने इसके लिए अम्मू का नोटिस भी थमाया था। उनके इस्तीफ़े को इसी नोटिस के साथ जोड़कर देखा जा रहा है। बुधवार को उन्होंने मीडिया से रूबरू होते हुए अपने इस्तीफ़ा की घोषणा की। इस दौरान उन्होंने एनसी नेता और सांसद फ़ारूख अब्दुल्ला को भी ललकारा। अम्मू ने कहा,’ सुबह सपना आया था और कुछ लोग शहादत मांग रहे थे। मैंने भारी मन से इस्तीफ़ा दिया है। मैं हरियाणा के सीएम के व्यवहार से दुखी हूं। मैंने इतना घमंडी बीजेपी सीएम कभी नहीं देखा है, जिसे अपने पार्टी के कार्यकर्ताओं और समुदाय के प्रतिनिधियो..

AMU में शिया-सुन्नी करे एक साथ पढ़ाई, लड़के-लड़की बैठे साथ: UGC

अलीगढ़ मुस्लिम विश्विद्यालय से मुस्लिम शब्द हटाने के सुझाव के बाद अब यूजीसी की एक समिति ने विश्विद्यालय में छात्र और छात्राओं को एक साथ बिठाकर शिक्षा देने की वकालत की है. UGC की इस समिति ने मोदी सरकार को भेजे अपने प्रस्ताव में AMU में छात्र-छात्राओं के अलग-अलग क्लासरूम को लेकर आपत्ति जताई. साथ ही कहा कि इस व्यवस्था के चलते छात्र प्रोफेशनल कोर्स और फिर पढ़ाई के बाद नौकरी के दौरान भी अपनी झिझक दूर नहीं कर पाते. समिति ने कहा कि इस वजह से उन्हें कई बार इसका नुकसान भी उठाना पड़ता है. समिति ने अपने प्रस्ताव में शिया-सुन्नी का भी मसला उठाते हुए विश्विद्यालय में शिया और सुन्नी के लिए अलग-अलग डिपार्टमेंट पर भी आपत्ति जताई. समिति में शामिल विशेषज्ञों का कहना कि जब शिया और सुन्नी दोनों एक ही धर्म पर आधारित पढ़ाई करवाते हैं तो फिर दो अलग-अलग डिपार्टमेंट क्यों? समिति ने साथ ये भी सलाह दी है कि विश्वविद्यालय में स्नातक के कोर्सों के लिए दाखिले इंजीनियरिंग और मेडिकल के तर्ज पर राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा से होने चाहिए. समिति ने परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र, परीक्षा और रिजल्ट आदि का सेटअप तैयार कर..

AMU पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष शहजाद आलम बर्नी पर हमला, ऑफिस में घुसकर मारी गोलियां

अलीगढ़ – अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष शहजाद आलम बरनी पर बुधवार रात्री को जानलेवा हमला हुआ. शहजाद आलम पर उनके ऑफिस में घुसकर कुछ लोगो ने उनपर गोलियां चलायी, जहाँ गोली लगने के कारण घायल अवस्था में उन्हें जवाहर लाल नेहरु मेडिकल कॉलेज में एडमिट कराया गया है. बर्नी को निशाना बनाकर लगभग पांच गोलियां चलायी गयी जहाँ एक गोली बर्नी की बाजू और दूसरी गोली जांघ में लगी है। गोलियां चलाकर हमलावर भाग निकला। पूर्व अध्यक्ष को उनके साथियों ने मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया है। शहजाद आलम बर्नी वर्ष 2012-13 में एएमयू छात्र संघ के अध्यक्ष रहे हैं। वर्तमान में वह समाजवादी युवजन सभा के प्रदेश सचिव हैं। सिविल लाइन थाना क्षेत्र में पान वाली कोठी के बराबर में स्थित बिल्डिंग में किराए पर कमरा लेकर बर्नी फाउंडेशन का आफिस बना रखा है, जबकि अमीरनिशा में रहते हैं। मेडिकल कॉलेज चौकी इंचार्ज इसरार अहमद के अनुसार बर्नी अपने दो साथियों के साथ अपने आफिस में बैठे थे। मुंह में कपड़ा बांधे हुए एक युवक गेट को झटके से खोलकर अंदर घुसा और बर्नी को निशाना बनाते हुए पिस्टल से पांच गोलियां चलाईं। अचानक हुए हम..