Home » ए.एम.यू » ए.एम.यू. में उर्दू विभाग में प्रो.आले अहमद सरुर पर एक सेमिनार का आयोजन किया गया।
AMU

ए.एम.यू. में उर्दू विभाग में प्रो.आले अहमद सरुर पर एक सेमिनार का आयोजन किया गया।

अलीगढ़ मुसिलम विश्वविधालय के उर्दू विभाग के सेंटर आफ एडवांस स्टडीज के तत्वाधान में प्रख्यात उर्दू आलोचक प्रो. आले अहमद सरूर पर आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार के उदघाटन सत्र में मुख्य भाषण देते हुए खुदा बख्श लाइब्रेरी पटना के पूर्व निदेशक डा. आबिद रजा बेदार ने कहा कि प्रो. आले अहमद सरूर ने धर्म राजनीति, शिक्षा, समाज और साहित्य में अनेक क्रानितकारी कार्यों को अन्जाम दिया और वह एक महान समाज सुधारक थे।
उन्होंने कहा कि प्रो. आले अहमद सरूर ने अपने लेखन द्वारा युवाओं की एक पूरी नस्ल को तैयार किया था और उनकी रचना नये पुराने चिराग ने जो सफलता अर्जित की वो उनके अन्य संग्रहों को प्राप्त नहीं हो सकी। वह आधी शताब्दी गुजर जाने के बाद आज भी प्रासंगिक हैं। आले अहमद सरूर ने यह सन्देश दिया कि साहित्य की आलोचना से हट कर वासिवकता को को प्रस्तुत करती है। उन्होने आलोचनात्मक अध्यन के लिए जो विषय चुने उसको बड़े ही प्रभावी ढंग से प्रस्तुत किया।
डा. आबिद रजा बेदार ने कहा कि प्रो. आले अहमद सरूर की रचना हिन्दुस्तान किधर उनके साहित्यक जीवन का अहम पड़ाव है इसमें समिमलित लेखों में प्रो. आले अहमद सरूर ने भारतीय मुसलमान, अलीगढ़ एवं उर्दू की सिथति पर प्रकाश डाला। उनका मानना था कि बुद्वजीवियों का काम देश की सिथति की ओर सरकार का ध्यान आकर्षित करना है। उन्होंने देश व समुदाय की उन्नति के सपने देखे। डा. बेदार ने बदायुँ की तीन महान व्यकितयों हजरत ख्वाजा निजाम उददीन ओलिया, आले अहमद सरूर और सैयद अनवर जलाली को श्रद्वांजलि भी पेश की।
राष्ट्रीय सेमिनार के संयोजक प्रो. अबुल कलाम कासमी ने कहा कि प्रो. आले अहमद सरूर आलोचक, कवि एवं अलीगढ़ आन्दोलन के पक्षधर रहे और उन्होंने ही उर्दू विभाग को वासितवक रूप से विश्व के मानचित्र पर लाने का काम किया और हाल ही में उनकी कुलिलयात भी प्रकाशित हुर्इ है। उन्होंने कहा कि आले अहमद सरूर की गणना अल्लामा इकबाल के बड़े जानकारों में भी की जाती है।
उर्दू विभाग के अध्यक्ष प्रो. मोहम्मद जाहिद ने कहा कि राजा वह भी होता है जो जनता के âदय पर हुकुमत करना है और उर्दू साहित्य के साहित्यकार जनता के दिलों पर राज करते हैं। उन्होंने प्रो. आले अहमद सरूर के साहित्यक सेवाओं पर भी विस्तार से प्रकाश डाला। कार्यक्रम का संचालन करते हुए प्रो. काजी अफजाल हुसैन ने कहा कि आले अहमद सरूर ने कर्इ दशक पूर्व भारत और अलीगढ़ किधर जैसे विषय पर कलम उठाया जिसकी प्रासंगिकता आज भी है। प्रो. अथर सिददीकी ने अपने अध्यक्षीय भाषण में प्रो. आले अहमद सरूर से जुड़ी अपनी यादों को ताजा करते हुए उनके साहित्यक कारनामों पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर उर्दू विभाग की वार्षिक पत्रिका ”रफतार का विमोचन भी किया गया।
कार्यक्रम में प्रो. पदम श्री प्रो. काजी अब्दुल सत्तार, प्रो. इफितखार आलम, प्रो. सर्इदुज जफर जगतार्इ, प्रो. जकिया सिददीकी, प्रो. काजी जमाल हुसैन तथा प्रो. तारिक छतारी समेत बड़ी संख्या में विभाग के अध्यापक, शोधार्थी एवं छात्र उपसिथत थे।
बार्इट:-प्रो. काजी जमाल हुसैन (कार्डिनेटर)

YouTube Preview Image

359 total views, 1 views today

अपनी राय दें

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

‘पद्मावती’ विवाद में भाजपा नेता का इस्तीफ़ा, मनोहरलाल खट्टर को सुनाई खरी खोटी

चंडीगढ़ । फ़िल्म ‘पद्मावती’ का विरोध कर रहे भाजपा नेता सूरजपाल अम्मू ने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है। वो हरियाणा में भाजपा के चीफ़ मीडिया कोऑर्डिनेटर थे। अम्मू ने इस्तीफ़े के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को ज़िम्मेदार ठहराया। यही नही उन्होंने खट्टर को ख़ूब खरी खोटी सुनाते हुए कहा की मैंने आज तक इतना घमंडी भाजपा मुख्यमंत्री नही देखा। बताते चले की फ़िल्म ‘पद्मावती’ के विरोध में सूरजपाल अम्मू ने संजय लीला भंसाली और दीपिका पादुकोण का सर काटने वाले को दस करोड़ रुपए देने का एलान किया था। हालाँकि भाजपा ने इसके लिए अम्मू का नोटिस भी थमाया था। उनके इस्तीफ़े को इसी नोटिस के साथ जोड़कर देखा जा रहा है। बुधवार को उन्होंने मीडिया से रूबरू होते हुए अपने इस्तीफ़ा की घोषणा की। इस दौरान उन्होंने एनसी नेता और सांसद फ़ारूख अब्दुल्ला को भी ललकारा। अम्मू ने कहा,’ सुबह सपना आया था और कुछ लोग शहादत मांग रहे थे। मैंने भारी मन से इस्तीफ़ा दिया है। मैं हरियाणा के सीएम के व्यवहार से दुखी हूं। मैंने इतना घमंडी बीजेपी सीएम कभी नहीं देखा है, जिसे अपने पार्टी के कार्यकर्ताओं और समुदाय के प्रतिनिधियो..

AMU में शिया-सुन्नी करे एक साथ पढ़ाई, लड़के-लड़की बैठे साथ: UGC

अलीगढ़ मुस्लिम विश्विद्यालय से मुस्लिम शब्द हटाने के सुझाव के बाद अब यूजीसी की एक समिति ने विश्विद्यालय में छात्र और छात्राओं को एक साथ बिठाकर शिक्षा देने की वकालत की है. UGC की इस समिति ने मोदी सरकार को भेजे अपने प्रस्ताव में AMU में छात्र-छात्राओं के अलग-अलग क्लासरूम को लेकर आपत्ति जताई. साथ ही कहा कि इस व्यवस्था के चलते छात्र प्रोफेशनल कोर्स और फिर पढ़ाई के बाद नौकरी के दौरान भी अपनी झिझक दूर नहीं कर पाते. समिति ने कहा कि इस वजह से उन्हें कई बार इसका नुकसान भी उठाना पड़ता है. समिति ने अपने प्रस्ताव में शिया-सुन्नी का भी मसला उठाते हुए विश्विद्यालय में शिया और सुन्नी के लिए अलग-अलग डिपार्टमेंट पर भी आपत्ति जताई. समिति में शामिल विशेषज्ञों का कहना कि जब शिया और सुन्नी दोनों एक ही धर्म पर आधारित पढ़ाई करवाते हैं तो फिर दो अलग-अलग डिपार्टमेंट क्यों? समिति ने साथ ये भी सलाह दी है कि विश्वविद्यालय में स्नातक के कोर्सों के लिए दाखिले इंजीनियरिंग और मेडिकल के तर्ज पर राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा से होने चाहिए. समिति ने परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र, परीक्षा और रिजल्ट आदि का सेटअप तैयार कर..

AMU पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष शहजाद आलम बर्नी पर हमला, ऑफिस में घुसकर मारी गोलियां

अलीगढ़ – अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष शहजाद आलम बरनी पर बुधवार रात्री को जानलेवा हमला हुआ. शहजाद आलम पर उनके ऑफिस में घुसकर कुछ लोगो ने उनपर गोलियां चलायी, जहाँ गोली लगने के कारण घायल अवस्था में उन्हें जवाहर लाल नेहरु मेडिकल कॉलेज में एडमिट कराया गया है. बर्नी को निशाना बनाकर लगभग पांच गोलियां चलायी गयी जहाँ एक गोली बर्नी की बाजू और दूसरी गोली जांघ में लगी है। गोलियां चलाकर हमलावर भाग निकला। पूर्व अध्यक्ष को उनके साथियों ने मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया है। शहजाद आलम बर्नी वर्ष 2012-13 में एएमयू छात्र संघ के अध्यक्ष रहे हैं। वर्तमान में वह समाजवादी युवजन सभा के प्रदेश सचिव हैं। सिविल लाइन थाना क्षेत्र में पान वाली कोठी के बराबर में स्थित बिल्डिंग में किराए पर कमरा लेकर बर्नी फाउंडेशन का आफिस बना रखा है, जबकि अमीरनिशा में रहते हैं। मेडिकल कॉलेज चौकी इंचार्ज इसरार अहमद के अनुसार बर्नी अपने दो साथियों के साथ अपने आफिस में बैठे थे। मुंह में कपड़ा बांधे हुए एक युवक गेट को झटके से खोलकर अंदर घुसा और बर्नी को निशाना बनाते हुए पिस्टल से पांच गोलियां चलाईं। अचानक हुए हम..