Home » ए.एम.यू » ए.एम.यू. में भारतीय मुसलमानों की शैक्षिक गुणवत्ता और आवश्यकता पर दो द्विसीय राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया गया।
EDUCATION

ए.एम.यू. में भारतीय मुसलमानों की शैक्षिक गुणवत्ता और आवश्यकता पर दो द्विसीय राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया गया।

संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष प्रोफेसर डीपी अग्रवाल ने मुसिलम युवकों से आग्रह किया है कि वह पूरे आत्मविश्वास के साथ साथ मुकाबले की परीक्षाओं में भाग लें और देश में तरक्की के लिये जो सुविधायें उपलब्ध हैं उनका भरपूर लाभ उठायें और भूमडलीय करण के इस युग में रोजगार की अपार संभावनाओं का अपने हित में इस्तेमाल करें।
वह आज अलीगढ़ मुसिलम विश्वविधालय के मुसिलम शिक्षा एवं सांस्Ñतिक उत्थान केन्द्र द्वारा ”भारतीय मुसलमानों की शैक्षिक गुणवत्ता और आवश्यकता दो द्विवसीय राष्ट्रीय सेमिनार का उदघाटन कर रहे थे।
प्रोफेसर अग्रवाल ने कहा कि दुनिया की सौ अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति विश्वविधालों की सफलता का राज यह है कि वह समाज की जरूरतों को पूरा करने के लिये व्यापक कार्यक्रम चलाती है। उन्होें सुझाव दिया कि अलीगढ़ मुसिलम विश्वविधालय को भी अभिभावकों के लिये काउंसलिंग सैल गठित किया जाय, अधिक से अधिक छात्रों को सिविल सर्विसेज परीक्षा के लिये प्रेरित किया जाय और हमदर्द स्टडी सर्किल की तरह की कौचिंग की व्यवस्था की जाय। दुनिया भर में फैले पूर्व छात्रों को रोल माडल के तौर पर विवि में आमंत्रित किया जाय। ताकि वह छात्रों के प्रेरणा स्त्रोत बन सकें।
प्रोफेसर डीपी अग्रवाल ने कहा कि वह स्वयं इस विवि के छात्र रहे हैं और इस संस्था ने ही उनकी प्रतिभा को निखारा। उन्होंने कहा कि अमुवि देश की ऐसी शिक्षा संस्था है जिसने संघ लोक सेवा आयोग को दो अध्यक्ष प्रदान किये। प्रोफेसर एआर किदवर्इ भी इसी संस्था से जुड़े रहे।
उन्होंने कहा कि अलीगढ़ मुसिलम विश्वविधालय के छात्र आज अन्य विश्वविधालयों की तुलना में बहुत ही सभ्य और अनुशासित होते हैं और स्वाद क्षमता भी अन्य विश्वविधालयों की तुलना में बेहतर होते है। उन्होंने शैक्षिक गुणवत्ता पर कहा कि देश में प्राइवेट शिक्षा सस्थाओं के कारण शैक्षिक गुणवत्ता में कमी आ रही है और देश भर में आज दस लाख युवक इंजीनियरिंग की पढ़ार्इ कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अतरौली में किस तरह नकल हो रही है उससे शिक्षा की गुणवत्ता पर बहुत बुरा प्रभाप पड़ेगा।
उन्होंने मुसिलम शिक्षा पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए कहा कि पिछले दस वर्षों में मुसिलम नारी शिक्षा का प्रतिशत सबसे ज्यादा बढ़ा है और केराला में सौ से ज्यादा इंजीनियरिंग कालेज मुसलमानों द्वारा संचालित किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुसिलम समाज के ज्यदातर लोग शहर में बसते हैं और ग्रामीण क्षेत्रों की तुलना में अधिक सुविधायें हैं जिसका उन्हें भरपूर लाभ उठाना चाहिये। उन्होंने कहा कि अब शिक्षा के माध्यम भी बदल रहे हैं जिसका लाभ मुसलमानों को भी उठाना चाहिये।
प्रोफेसर अग्रवाल ने कहा कि मुसलमान दस्तकारी की कला में बहुत माहिर होते हैं अलीगढ़ मुसिलम विश्वविधालय को ऐसे आर्टीजन को प्रशिक्षित कर उन्हें लोअरक्लास से मिडिल क्लास तक पहुचाने का कार्य करना चाहिये।
राष्ट्रीय सेमिनार के उदघाटन सत्र की अध्यक्षता करते हुए कुलपति लेफ्टीनैन्ट जनरल जमीर उददीन शाह ने कहा कि इस स्ंस्था के छात्र बहुत सक्षम है और हमारा प्रयास है कि उनको अच्छी से अच्छी शिक्षा उपलब्ध करार्इ जाय।
उन्होंने कहा कि राष्ट्री सुरक्षा भी हमारी जिम्मेदारी है और इस बार दो छात्रों ने नेशनल डिफेंस अकादमी में प्रवेश पाने में सफलता अर्जित की है और भविष्य में भी बड़ी संख्या में छात्र फौज की नौकरी के लिये तैयार होंगे।
उन्होंने कहा कि विश्वविधालय की गरिमा को वह पुन: बहाल करने के लिये प्रयासरत है और कक्षाओं में हाजिरी की मांग को लेकर जो छात्र हंगामा कर रहे हैं उनका उददेश्य पढ़ार्इ करना नहीं है। ऐसे लोग यूनीवर्सिटी का पैसा भी बबार्द कर रहे है और अपना समय भी। उनके साथ कोर्इ रियायत नहीं बरती जायेगी आम छात्रों के सहयोग से उन्हें अलग अलग किया जायेगा।
कुलपति ने कहा कि डा. अग्रवाल की तरह हमारे छात्रों को अच्छे रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे।
मुसिलम शिक्षा एवं संस्Ñतिक उत्थान केन्द्र के निदेशक प्रोफेसर शमीम ए अन्सारी ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि भारतीय संसद ने यूनीवर्सिटी एक्ट 1981 में इस विवि को भारतीय मुसलमानों की शिक्षा और संस्Ñति के उत्थान का विषेष दायित्व सौंपा है।
उन्होंने कहा कि यह सैंटर अपने उददेश्यों की पूर्ति के लिये सक्रिय भूमिका निभा रहा है।
डा. फजल महमूद ने कार्यक्रम का संचालन किया और अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापित किया।
बार्इट:-प्रो.शमीम अंसारी (प्रोग्राम डायरेक्टर)
बार्इट:-जमीरउददीन शाह (वी.सी. स्पीच)

YouTube Preview Image

400 total views, 1 views today

अपनी राय दें

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

AMU पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष शहजाद आलम बर्नी पर हमला, ऑफिस में घुसकर मारी गोलियां

अलीगढ़ – अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष शहजाद आलम बरनी पर बुधवार रात्री को जानलेवा हमला हुआ. शहजाद आलम पर उनके ऑफिस में घुसकर कुछ लोगो ने उनपर गोलियां चलायी, जहाँ गोली लगने के कारण घायल अवस्था में उन्हें जवाहर लाल नेहरु मेडिकल कॉलेज में एडमिट कराया गया है. बर्नी को निशाना बनाकर लगभग पांच गोलियां चलायी गयी जहाँ एक गोली बर्नी की बाजू और दूसरी गोली जांघ में लगी है। गोलियां चलाकर हमलावर भाग निकला। पूर्व अध्यक्ष को उनके साथियों ने मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया है। शहजाद आलम बर्नी वर्ष 2012-13 में एएमयू छात्र संघ के अध्यक्ष रहे हैं। वर्तमान में वह समाजवादी युवजन सभा के प्रदेश सचिव हैं। सिविल लाइन थाना क्षेत्र में पान वाली कोठी के बराबर में स्थित बिल्डिंग में किराए पर कमरा लेकर बर्नी फाउंडेशन का आफिस बना रखा है, जबकि अमीरनिशा में रहते हैं। मेडिकल कॉलेज चौकी इंचार्ज इसरार अहमद के अनुसार बर्नी अपने दो साथियों के साथ अपने आफिस में बैठे थे। मुंह में कपड़ा बांधे हुए एक युवक गेट को झटके से खोलकर अंदर घुसा और बर्नी को निशाना बनाते हुए पिस्टल से पांच गोलियां चलाईं। अचानक हुए हम..

AMU छात्रों ने शुरू की गरीबों को फ्री खाना खिलाने की बेहतरीन पहल

किसी भूखे को खाना खिलाना दुनिया के हर धर्म में सबसे बड़ा पुण्य का कार्य करार दिया गया है. वहीँ मजहब-ए-इंसानियत इस्लाम में इस काम से बढ़कर कोई काम नहीं है. ऐसे में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रों ने सप्ताह में एक दिन गरीब व नादार लोगों के लिए मुफ्त में खाना खिलाने की योजना शुरू की है. AMU छात्र शिविर लगा कर भूखे और गरीब लोगों की पेट की भूख को शांत कर रहे है. “फ्री फ़ूड फॉर हंगरी” नाम से शुरू किया गया ये अभियान पिछले तीन हफ्तें से जारी है. इस अभियान के तहत केम्पस में गरीब व नादार लोगों के लिए निशुल्क भोजन का कैंप लगाया जाता है. अब छात्र इस कोशिश में जुटे है कि इस अभियान को एक राष्ट्रव्यापी रूप से लागू किया जाए ताकि गरीबों को दो वक्त का खाना नसीब हो सके. ध्यान रहे दक्षिण भारत के कई जिलों में गरीबों को खाना खिलाने ये अभियान कई संगठनों और लोगों ने चला रखी है, जो रोजाना या सप्ताह में खाना खिलाने का काम करते हैं. हालांकि इस नेक काम की जरुरत अब उत्तर भारत में है. जहाँ धर्म के नाम पर लोग मरने-मारने के लिए रहते है. लेकिन उसी धर्म में बताये गए मानवता की सेवा के कर्म को भूल बैठे है.

अलीगढ़: AMU खेल सचिव पर जानलेवा हमला, गोलीबारी में बाल-बाल बचे

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) गेम्स कमेटी के सचिव प्रो. एस अमजद अली रिजवी पर बुधवार को दो दर्जन से ज्यादा लोगों ने जानलेवा हमला किया. हमला करने वाले छात्र एएमयू के बताए जा रहे है. प्राप्त जानकारी के अनुसार, अमजद अली पर ये हमला दोदपुर में हुआ. रास्ते में उनकी गाड़ी रोककर तोड़फोड़ की गई. उनकी गाड़ी पर फायरिंग की भी खबर है. इस मामले में एएमयू के ही तीन छात्रों समेत दो दर्जन युवकों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज हुई है. अमर उजाला के मुताबिक हमलावरों ने बाइकों से पेट्रोल निकालकर कमेटी कार्यालय को फूंकने की भी कोशिश की. इस दौरान हमलावरों ने डॉ. रिजवी की गाड़ी को मौलाना आजाद लाइब्रेरी पर घेर लिया. यहां से लेकर बाइक सवार हमलावर फायरिंग करते हुए बरूला मार्केट तक डॉ. रिजवी की गाड़ी का पीछा करते रहे. चिव का आरोप है कि छात्रों ने कार्यालय पर ताला लगा दिया और स्टाफ के साथ बदसलूकी की. मेज, कुर्सी पलटने के साथ कागजात फाड़ दिए. पेट्रोल डालकर कार्यालय जलाने की धमकी दी. सिविल लाइंस थाने में दर्ज रिपोर्ट के अनुसार माज खान शेरवानी निवासी जामिया उर्दू, रेहान निवासी जमालपुर व असर कलाम एमएफसी (फाइनल) समेत दो दर्ज..