Home » ए.एम.यू » ए.एम.यू. में भारतीय मुसलमानों की शैक्षिक गुणवत्ता और आवश्यकता पर दो द्विसीय राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया गया।
EDUCATION

ए.एम.यू. में भारतीय मुसलमानों की शैक्षिक गुणवत्ता और आवश्यकता पर दो द्विसीय राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया गया।

संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष प्रोफेसर डीपी अग्रवाल ने मुसिलम युवकों से आग्रह किया है कि वह पूरे आत्मविश्वास के साथ साथ मुकाबले की परीक्षाओं में भाग लें और देश में तरक्की के लिये जो सुविधायें उपलब्ध हैं उनका भरपूर लाभ उठायें और भूमडलीय करण के इस युग में रोजगार की अपार संभावनाओं का अपने हित में इस्तेमाल करें।
वह आज अलीगढ़ मुसिलम विश्वविधालय के मुसिलम शिक्षा एवं सांस्Ñतिक उत्थान केन्द्र द्वारा ”भारतीय मुसलमानों की शैक्षिक गुणवत्ता और आवश्यकता दो द्विवसीय राष्ट्रीय सेमिनार का उदघाटन कर रहे थे।
प्रोफेसर अग्रवाल ने कहा कि दुनिया की सौ अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति विश्वविधालों की सफलता का राज यह है कि वह समाज की जरूरतों को पूरा करने के लिये व्यापक कार्यक्रम चलाती है। उन्होें सुझाव दिया कि अलीगढ़ मुसिलम विश्वविधालय को भी अभिभावकों के लिये काउंसलिंग सैल गठित किया जाय, अधिक से अधिक छात्रों को सिविल सर्विसेज परीक्षा के लिये प्रेरित किया जाय और हमदर्द स्टडी सर्किल की तरह की कौचिंग की व्यवस्था की जाय। दुनिया भर में फैले पूर्व छात्रों को रोल माडल के तौर पर विवि में आमंत्रित किया जाय। ताकि वह छात्रों के प्रेरणा स्त्रोत बन सकें।
प्रोफेसर डीपी अग्रवाल ने कहा कि वह स्वयं इस विवि के छात्र रहे हैं और इस संस्था ने ही उनकी प्रतिभा को निखारा। उन्होंने कहा कि अमुवि देश की ऐसी शिक्षा संस्था है जिसने संघ लोक सेवा आयोग को दो अध्यक्ष प्रदान किये। प्रोफेसर एआर किदवर्इ भी इसी संस्था से जुड़े रहे।
उन्होंने कहा कि अलीगढ़ मुसिलम विश्वविधालय के छात्र आज अन्य विश्वविधालयों की तुलना में बहुत ही सभ्य और अनुशासित होते हैं और स्वाद क्षमता भी अन्य विश्वविधालयों की तुलना में बेहतर होते है। उन्होंने शैक्षिक गुणवत्ता पर कहा कि देश में प्राइवेट शिक्षा सस्थाओं के कारण शैक्षिक गुणवत्ता में कमी आ रही है और देश भर में आज दस लाख युवक इंजीनियरिंग की पढ़ार्इ कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अतरौली में किस तरह नकल हो रही है उससे शिक्षा की गुणवत्ता पर बहुत बुरा प्रभाप पड़ेगा।
उन्होंने मुसिलम शिक्षा पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए कहा कि पिछले दस वर्षों में मुसिलम नारी शिक्षा का प्रतिशत सबसे ज्यादा बढ़ा है और केराला में सौ से ज्यादा इंजीनियरिंग कालेज मुसलमानों द्वारा संचालित किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुसिलम समाज के ज्यदातर लोग शहर में बसते हैं और ग्रामीण क्षेत्रों की तुलना में अधिक सुविधायें हैं जिसका उन्हें भरपूर लाभ उठाना चाहिये। उन्होंने कहा कि अब शिक्षा के माध्यम भी बदल रहे हैं जिसका लाभ मुसलमानों को भी उठाना चाहिये।
प्रोफेसर अग्रवाल ने कहा कि मुसलमान दस्तकारी की कला में बहुत माहिर होते हैं अलीगढ़ मुसिलम विश्वविधालय को ऐसे आर्टीजन को प्रशिक्षित कर उन्हें लोअरक्लास से मिडिल क्लास तक पहुचाने का कार्य करना चाहिये।
राष्ट्रीय सेमिनार के उदघाटन सत्र की अध्यक्षता करते हुए कुलपति लेफ्टीनैन्ट जनरल जमीर उददीन शाह ने कहा कि इस स्ंस्था के छात्र बहुत सक्षम है और हमारा प्रयास है कि उनको अच्छी से अच्छी शिक्षा उपलब्ध करार्इ जाय।
उन्होंने कहा कि राष्ट्री सुरक्षा भी हमारी जिम्मेदारी है और इस बार दो छात्रों ने नेशनल डिफेंस अकादमी में प्रवेश पाने में सफलता अर्जित की है और भविष्य में भी बड़ी संख्या में छात्र फौज की नौकरी के लिये तैयार होंगे।
उन्होंने कहा कि विश्वविधालय की गरिमा को वह पुन: बहाल करने के लिये प्रयासरत है और कक्षाओं में हाजिरी की मांग को लेकर जो छात्र हंगामा कर रहे हैं उनका उददेश्य पढ़ार्इ करना नहीं है। ऐसे लोग यूनीवर्सिटी का पैसा भी बबार्द कर रहे है और अपना समय भी। उनके साथ कोर्इ रियायत नहीं बरती जायेगी आम छात्रों के सहयोग से उन्हें अलग अलग किया जायेगा।
कुलपति ने कहा कि डा. अग्रवाल की तरह हमारे छात्रों को अच्छे रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे।
मुसिलम शिक्षा एवं संस्Ñतिक उत्थान केन्द्र के निदेशक प्रोफेसर शमीम ए अन्सारी ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि भारतीय संसद ने यूनीवर्सिटी एक्ट 1981 में इस विवि को भारतीय मुसलमानों की शिक्षा और संस्Ñति के उत्थान का विषेष दायित्व सौंपा है।
उन्होंने कहा कि यह सैंटर अपने उददेश्यों की पूर्ति के लिये सक्रिय भूमिका निभा रहा है।
डा. फजल महमूद ने कार्यक्रम का संचालन किया और अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापित किया।
बार्इट:-प्रो.शमीम अंसारी (प्रोग्राम डायरेक्टर)
बार्इट:-जमीरउददीन शाह (वी.सी. स्पीच)

YouTube Preview Image

500 total views, 2 views today

अपनी राय दें

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

इफ्तार के बहाने की गयी कलमे की तौहीन , AMU ने जारी किया नोटिस

देश की मशहूर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) एक बार फिर से चर्चा मे है। इस बार चर्चा का विषय यूनिवर्सिटी के कुछ छात्रों द्वारा धार्मिक भावनाओं को आहत करने को लेकर है। इस मामले मे प्रशासन ने नोटिस भी जारी किया है। जानकारी के अनुसार, AMU छात्रा का एक वीडियो फेसबुक पर वायरल हुआ था। इसमें यूनिवर्सिटी की छात्रा रोजा […] The post इफ्तार के बहाने की गयी कलमे की तौहीन , AMU ने जारी किया नोटिस appeared first on Hindi News.

नशे में इस्लाम धर्म पर विवादित पोस्ट, AMU के तीन छात्रों पर मुकदमा दर्ज

देश की प्रतिष्ठित अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के तीन छात्रों पर इस्लाम सोशल मीडिया के जरिए अपमान करने का आरोप है। इस मामले तीनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। छात्रों ने शनिवार को एक इफ्तार पार्टी के दौरान शराब के नशे में सोशल मीडिया पर एक विवादित पोस्ट की थी। जिसमे इस्लाम धर्म के स्लोगन को आपत्तिजनक […] The post नशे में इस्लाम धर्म पर विवादित पोस्ट, AMU के तीन छात्रों पर मुकदमा दर्ज appeared first on Hindi News.

‘यौनिक सुख हेतु कम्यूनिज्म-एथिज्म का ढोंग’

मिडिल क्लास फैमिली के लड़के, गाँव से शहर आए लड़के, नए नए लिबरल बने लड़के सेक्स हेतु मज़हब को बिस्तर पर बिछा देने के लिए बदनाम हैं। कथित कम्यूनिस्ट बने मुसलमान लड़कों के परिवारों की राजनीतिक, धार्मिक तथा सामाजिक स्तर पर अवलोकन करेंगे तो पाएंगे वे इस्लाम को ही फॉलो करते हैं परंतु लड़के, परिवार […] The post ‘यौनिक सुख हेतु कम्यूनिज्म-एथिज्म का ढोंग’ appeared first on Hindi News.