Home » ए.एम.यू » ए.एम.यू. मे पहली बार ग्रेजुएशन के के लिए प्रवेश परीक्षा।
25

ए.एम.यू. मे पहली बार ग्रेजुएशन के के लिए प्रवेश परीक्षा।

अलीगढ मुसिलम यूनिवर्सिटी मे अभी तक ग्रेजुएशन मे दाखिले के लिए इंटर मे मिले नम्बरो के आघार पर मैरिट लिस्ट बना कर एडमिशन दिये जाते थे। लेकिन इस बार ए.एम.यू. ने ग्रेजुएशन कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया गया। ए.एम.यू. के पी.आर.औ के अनुसार मैरिट को आघार बनाने से किसी विशेष बोर्ड के छात्र ही एडमिशन पा जाते थे और काबिल छात्र प्रवेश पाने से वंचित रह जाते थे। इसी को देखते हुए ए.एम.यू. ने इस बार प्रवेश परीक्षा का आयेजन किया है। इस प्रवेश परीक्षा मे बीएससी की प्रवेश परीक्षा में कुल 16807 अभ्यार्थियों ने आवेदन किया जिसमें 11931 अभ्यार्थी प्रवेश परीक्षा में शामिल हुए जबकि 4878 अनुपसिथत रहे। इसी प्रकार बीकाम में अलीगढ़ में 4326 अभ्यार्थियों ने फार्म भरे थे जिसमें 3271 अभ्यार्थी 33 परीक्षा केन्द्रों पर उपसिथत हुए और 1055 अनुपसिथत रहे। इस प्रवेश परीक्षा का आयेाजन अलीगढ के अलावा पाच अन्य केन्द्रो पर भी किया गया
बार्इट :- राहत अबरार (पी.आर.औ.)

YouTube Preview Image

566 total views, 1 views today

अपनी राय दें

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

मीडिया की AMU को बदनाम करने की साजिश, मुजम्मिल हुसैन के नहीं आतंकियों से संबंध

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) को बदनाम करने की साजिश के तहत एक के बाद एक मीडिया में एएमयू के छात्रों के लापता होने और आतंकी संगठनों से जुड़ने की अपुष्ट खबरे आ रही है. जिनका कोई आधार न होने के बावजूद बड़े-बड़े मीडिया हाउस इन खबरों को प्रकाशित कर छात्रों के भविष्य से खेल रहे है. ताजा मामला एएमयू छात्र, मुज़म्मिल हुसैन से जुड़ा है. जिसके लापता होने और आतंकी संगठन से जुड़े होने की खबर प्रकाशित की जा रही है. बल्कि वह जिऑलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया में नौकरी कर रहा है. साथ ही हुसैन एमईसीएल, सेमिनरी हिल, 17 अक्टूबर, 2016 से नागपुर में रह रहे हैं. एएमयू प्रशासन ने हुसैन के लापता होने की खबर को खारिज करते हुए कहा कि मीडिया के एक सेक्शन द्वारा दी गई जानकारी तथ्यों का गलत ब्योरा है, जो बहुत गलतफहमी पैदा कर रही है. विश्वविद्यालय इन अख़बारों की रिपोर्टों के लिए अपवाद लेता है जो असत्यापित और अनौपचारिक जानकारी देती हैं. ध्यान रहे मुजम्मिल हुसैन जम्मू-कश्मीर के बारामूला के रहने वाले हैं. जिऑलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया में चयन के बाद मुजम्मिल ने नौकरी जॉइन करने के बाद से ही उन्होंने जुलाई 2017 में हॉस्टल छोड़ दिय..

मन्नान वानी के आतंकी कनेक्शन पर बोले छात्र – AMU को बदनाम करने की साजिश

कथित तौर पर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) के पीएचडी स्‍कॉलर मन्नान बशीर वानी के हिजबुल मुजाहिदीन से जुड़ने की खबरों को एएमयू छात्रों ने विश्वविद्यालय को बदनाम करने की साजिश करार दिया. दरअसल, हाल ही में वानी की हाथ में एके-47 वाली तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी. जिसके बाद मीडिया में खबर आई कि वानी हिजबुल मुजाहिदीन से जुड़ चुका है. वानीकुपवाड़ा जिले के लोलाब के ताकीपोरा गांव का रहने वाला है. और उसका भाई जूनियर इंजीनियर है. मनान वानी पिछले पांच साल से एएमयू में पढ़ रहा है. वह एम फिल कर रहा चूका था. वह अब जिऑलजी में पीएचडी कर रहा है. मन्नान के साथ पढ़ने वाले कुछ छात्रों ने उसके आतंकी संगठन से जुड़ने पर आश्चर्य जताते हुए कहा कि मन्नान ऐसा नहीं कर सकता. वह बहुत ही होशियार छात्र था. यह उसे फंसाने की साजिश हो सकती है. साथी छात्रों में से एक जुनैद ने बताया कि कैंटीन में कभी-कभार मुलाकात हो जाया करती थी. हालांकि छात्रों का ये भी कहना है कि वायरल फोटो मॉर्फ्ड भी हो सकती है. मन्नान को हाल ही में उसे भोपाल में बेस्ट पेपर प्रेजेन्टेशन के लिए अवार्ड भी मिला था. साथी छात्रों का कहना है कि आरो..

बुलेट चलाती AMU की लड़कियां

अलीगढ़ – जब भी बात की जाती है मुस्लिम महिलाओं, तब मीडिया मुस्लिम महिलाओं को बेचारा, बुर्के में ज़बरदस्ती ठूंसी हुई, रोटी चूल्हा करती महिला की छवि लेकर चलती है. पिछले पखवाड़े तीन तलाक को लेकर जिस तरह देशव्यापी हंगामा हुआ उसे देखकर आम भारतीय अपने दुःख दर्द भूलता सा महसूस हुआ, हालाँकि यूपी विधान सभा चुनाव में मिली जीत को भाजपा ने मुस्लिम महिलाओं से मिली वोटो की जीत तक कहा लेकिन चूँकि मतदान गोपनीय होता है इसलिए यह सब चुनावी अटकले ही रह गयी. अगर बात की जाए मुस्लिम घरेलु महिला की तो मीडिया जो छवि हमें दिखाता है वो महिला भी बेचारी घर में बुर्के से लदी-दबी कुचली नज़र आती है, बेचारी पर ज़ुल्म भी इतना है की सोती भी बुरका पहनकर ही है. भरोसा ना हो तो गूगल का यह स्क्रीनशॉट देखें. अब वो बात अलग है की दुनिया की प्रथम यूनिवर्सिटी एक मुस्लिम महिला फातिमा अल-फिहरी ने स्थापित की थी. वहीँ अगर ऐसे में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में पढने वाली मुस्लिम लड़कियों की बात की जाए तो उनको लेकर भी कहानी कुछ ज्यादा अलग नही आती लेकिन जैसे जैसेह्लात बदल रहे है वैसे वैसे लोगो की सोच भी बदलती जा रही है, यूं तो मुस्लिम लड़कि..