Home » ए.एम.यू » AMU छात्रों ने शुरू की गरीबों को फ्री खाना खिलाने की बेहतरीन पहल

AMU छात्रों ने शुरू की गरीबों को फ्री खाना खिलाने की बेहतरीन पहल

ligh11

किसी भूखे को खाना खिलाना दुनिया के हर धर्म में सबसे बड़ा पुण्य का कार्य करार दिया गया है. वहीँ मजहब-ए-इंसानियत इस्लाम में इस काम से बढ़कर कोई काम नहीं है.

ऐसे में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रों ने सप्ताह में एक दिन गरीब व नादार लोगों के लिए मुफ्त में खाना खिलाने की योजना शुरू की है. AMU छात्र शिविर लगा कर भूखे और गरीब लोगों की पेट की भूख को शांत कर रहे है. “फ्री फ़ूड फॉर हंगरी” नाम से शुरू किया गया ये अभियान पिछले तीन हफ्तें से जारी है.

इस अभियान के तहत केम्पस में गरीब व नादार लोगों के लिए निशुल्क भोजन का कैंप लगाया जाता है. अब छात्र इस कोशिश में जुटे है कि इस अभियान को एक राष्ट्रव्यापी रूप से लागू किया जाए ताकि गरीबों को दो वक्त का खाना नसीब हो सके.

ध्यान रहे दक्षिण भारत के कई जिलों में गरीबों को खाना खिलाने ये अभियान कई संगठनों और लोगों ने चला रखी है, जो रोजाना या सप्ताह में खाना खिलाने का काम करते हैं.

हालांकि इस नेक काम की जरुरत अब उत्तर भारत में है. जहाँ धर्म के नाम पर लोग मरने-मारने के लिए रहते है. लेकिन उसी धर्म में बताये गए मानवता की सेवा के कर्म को भूल बैठे है.

20 total views, 1 views today

अपनी राय दें

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

AMU में बोले पूर्व राष्ट्रपति – ‘कानून के जरिए राष्ट्रवाद को लागू नहीं किया जा सकता’

मंगलवार को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के संस्थापक सर सैयद अहमद खान के 200वें जन्मदिवस समारोह में शामिल हुए देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने देश में चल रही राष्ट्रवाद को परिभाषित करने की कोशिश को अनावश्यक करार दिया. साथ ही उन्होंने कहा, देश में कानून के जरिए राष्ट्रवाद को लागू नहीं किया जा सकता. उन्होंने कहा कि राष्ट्रवाद की परिभाषा को फिर से परिभाषित करने के लिए समय-समय पर प्रयास किए गए हैं. ऐसे प्रयास अनावश्यक हैं क्योंकि हमारी राष्ट्रवाद और राष्ट्रीय पहचान की अवधारणा पहचान के आधुनिक और उत्तर आधुनिक निर्माण से पहले ही होती है. यूरोपीय राष्ट्र के संदर्भों में राष्ट्रवाद की अवधारणा भारतीय सभ्यता में एक नई घटना है. मुखर्जी ने कहा कि क्षेत्र, राजतंत्र, सांसारिक और आध्यात्मिक प्राधिकरण भारत में राष्ट्रवाद को परिभाषित नहीं कर सकते. उन्होंने आगे कहा कि राष्ट्रवाद कानून द्वारा लागू नहीं किया जा सकता है, इसके अलावा ये अदालती हुक्म या फिर घोषणा से भी लागू नहीं किया जा सकता. उन्होंने कहा कि भारत क्या है? लगभग 3.3 मिलियन किलोमीटर की विशाल भूमि, जिस पर सात धर्मों के लोग व्यवसाय करते ह..

एएमयू और बीएचयु से हटाये जा सकते है ‘मुस्लिम’ और ‘हिन्दू’ शब्द

नई दिल्ली | देश की दो जानी मानी यूनिवर्सिटी एएमयू और बीएचयू के बहुत जल्द नाम बदले जा सकते है. देश की सेंट्रल यूनिवर्सिटीज को सेक्युलर प्रदर्शित करने के लिए यह कदम उठाया जा सकता है. इसलिए माना जा रहा है की मोदी सरकार बहुत जल्द अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में से ‘मुस्लिम’ और बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी में से ‘हिन्दू’ शब्द हटा सकती है. यह सिफारिश यूजीसी की और से गठित एक समिति की... Source

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से उठी छात्रों की आवाज़ कहा हमें जबरन शाकाहारी बनाया जा रहा है ?

लखनऊ ! यूपी में मीट कारोबारियों की हड़ताल की वजह से मीट की किल्लत का असर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्रों पर भी पड़ा है. इनके खाने से मांसाहार गायब हो गया है. पहले छात्रों को हफ्ते में दो दिन मीट मिल जाता था. छात्रों की शिकायत है कि उन्हें जबरन शाकाहारी बनाया जा रहा है.हर वक्त दाल सब्ज़ी परोसी जा र..