Home » Hindustan » पहले सुबह उठकर जाते थे खेत, अब जाते हैं बैंक
नोटबंदी के बाद से किसानों की जिंदगी भी बदल गई है। उन्हें खेत की तैयारी और खेती के बजाय चिंता सताती रहती है अपने घर खर्च व खेती के लिए सामान खरीदने को रुपये जुटाने की। इसके लिए वे खेत

पहले सुबह उठकर जाते थे खेत, अब जाते हैं बैंक

नोटबंदी के बाद से किसानों की जिंदगी भी बदल गई है। उन्हें खेत की तैयारी और खेती के बजाय चिंता सताती रहती है अपने घर खर्च व खेती के लिए सामान खरीदने को रुपये जुटाने की। इसके लिए वे खेत

9 total views, 2 views today

अपनी राय दें

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

रुपये के लेनदेन में रच डाला डकैती का नाटक

मथुरा रोड स्थित इन्द्रप्रस्थ कालोनी में हलवाई के घर हुई डकैती में रविवार को नया मोड़ आ गया। पुलिस ने वादी से कड़ाई से पूछताछ की तो पता चला की रुपये के लेनदेन को लेकर झगड़ा हुआ था।

कोहरे ने बढ़ाई रेल यात्रियों की मुसीबतें

ठंड का मौमस रेल यात्रियों के लिए दोहरी मुसीबत का सबब बन चुका है। पहला कोहरे से उनकी ट्रेनें कई कई घंटे की देरी से स्टेशन पर आ रही हैं। दूसरा आरक्षण कराने वाले यात्रियों को ठंड की रात प्लेटफार्म

धूमधाम से निकाली राम बारात

श्री टीकाराम मंदिर परिसर में श्री सीताराम विवाह महोत्सव का आयोजन रविवार को बड़े ही धूमधाम से हुआ। इस अवसर पर पूरी निष्ठा के साथ वरयात्रा प्रस्थान और विवाहोत्सव मनाया गया।