Home » ए.एम.यू » मीडिया की AMU को बदनाम करने की साजिश, मुजम्मिल हुसैन के नहीं आतंकियों से संबंध

मीडिया की AMU को बदनाम करने की साजिश, मुजम्मिल हुसैन के नहीं आतंकियों से संबंध

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) को बदनाम करने की साजिश के तहत एक के बाद एक मीडिया में एएमयू के छात्रों के लापता होने और आतंकी संगठनों से जुड़ने की अपुष्ट खबरे आ रही है. जिनका कोई आधार न होने के बावजूद बड़े-बड़े मीडिया हाउस इन खबरों को प्रकाशित कर छात्रों के भविष्य से खेल रहे है.

ताजा मामला एएमयू छात्र, मुज़म्मिल हुसैन से जुड़ा है. जिसके लापता होने और आतंकी संगठन से जुड़े होने की खबर प्रकाशित की जा रही है. बल्कि वह जिऑलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया में नौकरी कर रहा है. साथ ही हुसैन एमईसीएल, सेमिनरी हिल, 17 अक्टूबर, 2016 से नागपुर में रह रहे हैं.

एएमयू प्रशासन ने हुसैन के लापता होने की खबर को खारिज करते हुए कहा कि मीडिया के एक सेक्शन द्वारा दी गई जानकारी तथ्यों का गलत ब्योरा है, जो बहुत गलतफहमी पैदा कर रही है. विश्वविद्यालय इन अख़बारों की रिपोर्टों के लिए अपवाद लेता है जो असत्यापित और अनौपचारिक जानकारी देती हैं.

ध्यान रहे मुजम्मिल हुसैन जम्मू-कश्मीर के बारामूला के रहने वाले हैं. जिऑलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया में चयन के बाद मुजम्मिल ने नौकरी जॉइन करने के बाद से ही उन्होंने जुलाई 2017 में हॉस्टल छोड़ दिया था. हालांकि जम्मू-कश्मीर के रहने वाले लापता एएमयू के पीएचडी छात्र मन्नान वानी का अभी तक अता-पता नहीं है.

इस सबंध में पुलिस का कहना है कि अभी ये कहना जल्दबाजी होगा कि वानी ने आतंकवादी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन जॉइन कर लिया है. वहीँ दूसरी और मन्नान वानी को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) ने निष्कासित कर दिया है.

The post मीडिया की AMU को बदनाम करने की साजिश, मुजम्मिल हुसैन के नहीं आतंकियों से संबंध appeared first on Aligarh Khabar Hindi News.

166 total views, 1 views today

अपनी राय दें

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

बुलेट चलाती AMU की लड़कियां

अलीगढ़ – जब भी बात की जाती है मुस्लिम महिलाओं, तब मीडिया मुस्लिम महिलाओं को बेचारा, बुर्के में ज़बरदस्ती ठूंसी हुई, रोटी चूल्हा करती महिला की छवि लेकर चलती है. पिछले पखवाड़े तीन तलाक को लेकर जिस तरह देशव्यापी हंगामा हुआ उसे देखकर आम भारतीय अपने दुःख दर्द भूलता सा महसूस हुआ, हालाँकि यूपी विधान सभा चुनाव में मिली जीत को भाजपा ने मुस्लिम महिलाओं से मिली वोटो की जीत तक कहा लेकिन चूँकि मतदान गोपनीय होता है इसलिए यह सब चुनावी अटकले ही रह गयी. अगर बात की जाए मुस्लिम घरेलु महिला की तो मीडिया जो छवि हमें दिखाता है वो महिला भी बेचारी घर में बुर्के से लदी-दबी कुचली नज़र आती है, बेचारी पर ज़ुल्म भी इतना है की सोती भी बुरका पहनकर ही है. भरोसा ना हो तो गूगल का यह स्क्रीनशॉट देखें. अब वो बात अलग है की दुनिया की प्रथम यूनिवर्सिटी एक मुस्लिम महिला फातिमा अल-फिहरी ने स्थापित की थी. वहीँ अगर ऐसे में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में पढने वाली मुस्लिम लड़कियों की बात की जाए तो उनको लेकर भी कहानी कुछ ज्यादा अलग नही आती लेकिन जैसे जैसेह्लात बदल रहे है वैसे वैसे लोगो की सोच भी बदलती जा रही है, यूं तो मुस्लिम लड़कि..

AMU: मशकूर बने छात्र संघ के अध्यक्ष तो सज्जाद ने जीता उपाध्यक्ष पद

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) छात्र संघ चुनाव के अध्यक्ष पद पर बिहार के मशकूर अहमद उस्मानी ने जीत दर्ज की है. वहीँ उपाध्यक्ष पद पर पीएचडी के छात्र सज्जाद सुभान राधर विजयी रहे. इसके अलावा सचिव पद पर एमएईबी के छात्र मोहम्मद फ़हद ने बाजी मारी. प्रोफेसर मुजीबुल्लाह जुबैरी, मुख्य चुनाव अधिकारी के अनुसार, मशकूर अहमद उस्मानी ने निकटतम प्रतिद्वंद्वी व बरौली से भाजपा विधायक ठा. दलवीर सिंह के पौत्र ठा. अजय सिंह को 6719 मतों से हराया है. मशकूर को 9071 वोट मिले है. अजय को 2353 वोट मिले हैं. तीसरे स्थान पर रहे अबू बकर को 2192 वोट मिले. इसी क्रम में वीमेंस कॉलेज में बीए द्वितीय वर्ष की नबा नसीम अध्यक्ष चुनी गईं और बीकॉम फाइनल ईयर की निदा अकरम उपाध्यक्ष बनी हैं. इसके अलावा बीए द्वितीय वर्ष की छात्रा फबेदा अहमद ने सचिव पद पर जीत दर्ज की. नाबा नसीम को 916 वोट मिले. इन्होंने बीएससी द्वितीय की छात्रा नेहा किरमानी को 72 वोटों से हराया है. नेहा को 847 वोट मिल सके. तीसरे स्थान पर बीएस तृतीय की छात्रा उमामा हसीम रहीं, जिन्हें 97 वोट मिल सके. The post AMU: मशकूर बने छात्र संघ के अध्यक्ष तो सज्जाद न..

AMU में बड़े ही ख़ुलूस के साथ जश्ने ईद मिलादुन्नबी मनाई गई

दुनिया भर के मुसलमान इस्लाम धर्म के पैगंबर हजरत मुहम्मद (सल्ल.) का जन्मदिवस बड़ी ख़ुशी के साथ मना रहे है. ऐसे में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में भी नबी ए करीम (सल्ल.) के आमद का जश्न बड़े ही खुलूस के साथ मनाया गया. इस्लामिक साल हिजरी के अनुसार हजरत मुहम्मद (सल्ल.) साहब का जन्मदिवस रबी-उल-अव्वल की 12 तारीख को मनाया जाता है. हजरत मुहम्मद (सल्ल.) साहब के जन्म दिवस को जश्ने ईद मिलादुन्नबी, मिलाद आदि नामों से जाना जाता है.