Home » Hindustan » कारोबार ही बन गया सरनेम, यही है पहचान
धर्म, न जाति। कुछ लोगों की पहचान उनके कारोबार या उत्पाद के ब्रांड से होती है। अलीगढ़ में बड़ी संख्या ऐसे व्यवसायियों की हैं, जो नाम के पीछे कारोबार और ब्रांड को सरनेम के तौर लगाते हैं। जाति आधारित

कारोबार ही बन गया सरनेम, यही है पहचान

धर्म, न जाति। कुछ लोगों की पहचान उनके कारोबार या उत्पाद के ब्रांड से होती है। अलीगढ़ में बड़ी संख्या ऐसे व्यवसायियों की हैं, जो नाम के पीछे कारोबार और ब्रांड को सरनेम के तौर लगाते हैं। जाति आधारित

63 total views, 1 views today

अपनी राय दें

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

संभल में मूर्तियां लूटने वाले सात बदमाश अलीगढ़ में दबोचे

: संभल में अलीगढ़ के व्यापारियों की मूर्तियां लूटने वाले बदमाश बुधवार को अलीगढ़ में मुठभेड़ के दौरान गिरफ्तार कर लिए गए।

अलीगढ़ में आह्वान, कोई जगह न रहे खाली, हर तरफ हो हरियाली

पर्यावरण ऐसा मुद्दा है, जिससे हर किसी का सरोकार है। पेड़-पौधे नहीं रहेंगे तो हम भी सुरक्षित नहीं होंगे।

अलीगढ़ में जनकपुरी की पहचान बना नीरज जी का आशियाना

महाकवि गोपालदास नीरज मैरिस रोड स्थित जनकपुरी मुहल्ले में रहते थे।